Tuesday, May 21, 2024
HomeदेशJaishankar hits out on Rahul Gandhi: चीन के मुद्दे पर विदेश मंत्री...

Jaishankar hits out on Rahul Gandhi: चीन के मुद्दे पर विदेश मंत्री जयशंकर का राहुल को जवाब, जानिए जयशंकर ने ऐसा क्या कहा कि कांग्रेस को लगी मिर्ची

पूर्वी लद्दाख में एलएसी पर चीन की आक्रामकता को लेकर सरकार पर निशाना साध रहे राहुल गांधी पर पलटवार करते हुए विदेश मंत्री एस जयशंकर ने मंगलवार को कहा कि, यह कांग्रेस नेता नहीं बल्कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हैं जिन्होंने वास्तविक रेखा पर सेना भेजी थी। चीन द्वारा सेना की तैनाती के जवाबी उपाय के रूप में नियंत्रण और विपक्षी दल को 1962 में जो कुछ हुआ उसे देखने के लिए ईमानदारी रखनी चाहिए।

एक इंटरव्यू में जयशंकर ने कहा कि, मोदी सरकार ने बॉर्डर इंफ्रास्ट्रक्चर को मजबूत करने के लिए बजट में पांच गुना वृद्धि की गई है। पिछले साल चीन द्वारा पैंगोंग झील पर पुल बनाने पर कांग्रेस और अन्य विपक्षी दलों के आक्रोश का जिक्र करते हुए मंत्री ने कहा कि, यह क्षेत्र 1962 के युद्ध के बाद से चीन के अवैध कब्जे में था। चीन से संबंधित आरोपों पर कांग्रेस आड़े हाथों लेते हुए उन्होंने कहा कि इसके नेताओं को ‘C’ से शुरू होने वाले शब्दों को समझने में कुछ समस्या होती है। विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा कि…

''वह क्षेत्र वास्तव में चीनी नियंत्रण में कब आया? उन्हें (कांग्रेस को) 'C' से शुरू होने वाले शब्दों को समझने में कुछ दिक्कत होनी चाहिए। मुझे लगता है कि वो जानबूझकर स्थिति को गलत तरीके से पेश कर रहे हैं। चीनी पहली बार 1958 में वहां आए और चीनियों ने अक्टूबर 1962 में इस पर कब्जा कर लिया। अब आप 2023 में मोदी सरकार को एक पुल के लिए दोषी ठहरा रहे हैं, जिसे चीनियों ने 1962 में कब्जा कर लिया था और आपको यह कहने की ईमानदारी नहीं है कि यह कहां है घटित हुआ''

एस जयशंकर ने कांग्रेस पर लगातार हमले किए। उन्होंने इंटरव्यू के दौरान राजीव गांधी सरकार की चीन नीति का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा कि, 1988 में राजीव गांधी बीजिंग गए…1993 और 1996 में समझौतों पर हस्ताक्षर किए। मुझे नहीं लगता कि उन समझौतों पर हस्ताक्षर करना गलत था। यह कोई राजनीतिक मुद्दा नहीं है जो मैं बना रहा हूं। मुझे लगता है कि उस समय उन समझौतों पर हस्ताक्षर किए गए थे क्योंकि हमें सीमा को स्थिर करने की जरूरत थी। और उन्होंने किया, सीमा को स्थिर किया।

विदेश मंत्री ने जोर देकर कहा कि जब दूसरे देशों की मांगें वाजिब नहीं होंगी तो सरकार किसी समझौते पर नहीं पहुंच पाएगी। कांग्रेस पार्टी के इस आरोप के बारे में पूछे जाने पर कि मोदी सरकार चीन के मुद्दे पर रक्षात्मक और प्रतिक्रियाशील है, जयशंकर ने दावों को खारिज करते हुए कहा कि वर्तमान में चीन सीमा पर शांतिकाल की सबसे बड़ी तैनाती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Related Posts

Most Popular