Sunday, July 21, 2024
HomeदेशPM Modi's attack on the opposition: विदेश यात्रा से लौटे पीएम मोदी...

PM Modi’s attack on the opposition: विदेश यात्रा से लौटे पीएम मोदी ने विपक्ष को दिखाया आईना, नए संसद भवन के उद्घाटन का विरोध करने वाली पार्टियों को दिया इस देश का उदाहरण

छह दिनों में तीन देशों की यात्रा कर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) भारत लौट आए। बेहद कामयाब विदेश दौरे से लौटे प्रधानमंत्री का स्वागत करने के लिए बीजेपी के बड़े-बड़े नेताओं से लेकर कार्यकर्ता तक बड़ी संख्या में उमड़ पड़े। अपनी यात्रा के बारे में जानकारी देने के लिए एयरपोर्ट से बाहर निकलते ही पीएम मोदी के लिए मंच भी सजा हुआ था। लेकिन, उन्होंने ऑस्ट्रेलिया दौरे का अनुभव सुनाने के बहाने नई संसद के उद्घाटन समारोह के बहिष्कार की ज़िद पर अड़े विपक्ष के सामने आईना रख दिया। पीएम मोदी ने कहा कि…

''भारतीय समुदाय का जो कार्यक्रम था वहां ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री का आना गौरव की बात थी। इतना ही नहीं उस समारोह में पूर्व प्रधानमंत्री भी थे, उस समारोह में पूरी अपोजिशन पार्टीज के मेंबर थे। रूलिंग पार्टी के मेंबर्स थे। ये लोकतंत्र का वातावरण ऑस्ट्रेलिया के लोगों में भारतीयों के प्रति चाहे पक्ष सत्ता का हो चाहे पक्ष विपक्ष का हो, सबके सब मिलजुल करक भारतीय समुदाय के इस कार्यक्रम में उतने ही उमंग और उत्साह के साथ शरीक हुए थे।''
विदेश यात्रा से लौटने के बाद पीएम मोदी का भाषण

पीएम मोदी का इशारा कहां था ये आसानी से समझा जा सकता है। लेकिन, पीएम के इस बयान से ये भी साफ हो गया कि देश में नई संसद के बहाने विपक्ष की बहिष्कार वाली राजनीति प्रधानमंत्री को रास नहीं आ रही। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इशारों इशारों में इसे गुलामी की मानसिकता से जोड़ते हुए हिम्मत से बात करने की नसीहत दी। उन्होंने कहा कि…

''हिन्दुस्तान की संस्कृति, हिन्दुस्तान की महान परंपराओं के संबंध में बोलते समय कभी भी गुलामी वाले दिनों की मानसिकता में डूब मत जाना दोस्तो। हिम्मत के साथ बात कीजिए दुनिया से। आप सब ने देश को पूर्ण बहुमत वाली सरकार बनाई है। और जब पूर्ण बहुमत वाली सरकार का प्रतिनिधि विश्व के सामने जब कोई बात बताता है तो दुनिया ये विश्वास करती है कि ये अकेला नहीं बोल रहा है, 140 करोड़ लोग बोल रहे हैं।''
विदेश यात्रा से लौटने के बाद पीएम मोदी का भाषण

चूंकि तीन देशों के विदेश दौरे पर भारत सबसे ज्यादा चर्चा में रहा और इसका श्रेय प्रधानमंत्री मोदी की नीतियों को दिया गया, इसलिए वतन वापसी के बाद उनके फैसलों पर विपक्ष ने जो सवाल उठाए थे, PM मोदी ने उसकी याद भी दिलाई। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि…

''जयशंकर जी बता रहे थे हमारे विदेश मंत्री, वो लेटिन अमेरिका के देशों में गए थे, उन्होंने कहा कि मेरा लेटिन अमेरिका के देशों का अनुभव बिलकुल नया है। मैंने कहा क्या हुआ? बोले लोगों को इंडिया नाम भी मालूम नहीं है, भारत मालूम भी नहीं है। ज्यादातर वो ऐसे दाढ़ी दिखाते हैं और कहते हैं मुझे वैक्सीन मिला हम बच गए।''
बीजेपी का ट्वीट

पीएम मोदी ने कोरोना महामारी के दौरान केंद्र सरकार की वैक्सीन नीति पर विपक्ष के नजरिये पर चोट की। कहा कि, जब हिन्दुस्तान में मुझसे हिसाब मांगा जाता था, मोदी तुमने दुनिया के लोगों को वैक्सीन देने की क्या जरूरत थी? ये बुद्ध की धरती है ये गांधी की धरती है। दुश्मन की भी भलाई सोचने वाले हमलोग हैं।

बीजेपी का ट्वीट

जयशंकर ने बताया पापुआ न्यू गिनी के पीएम ने क्यों छुए मोदी के पांव

विदेश मंत्री एस जयशंकर (S Jaishankar) ने पापुआ न्यू गिनी की उस खास तस्वीर से जुड़ी अंदर की बात बताई जो दुनिया नहीं जानती। जयशंकर ने कहा कि..

''जिस आदर-सम्मान से पापुआ न्यू गिनी के प्रधानमंत्री जेम्स मराबे ने उनका स्वागत किया ये चित्र तो आप सबने देखा था, पर मैं आपको ये भी बताना चाहता हूं कि उसके पहले पापुआ न्यू गिनी के प्रधानमंत्री हमारे राजदूत से बात कर रहे थे और उन्होंने उनसे पूछा कि मैं भारत के प्रधानमंत्री को खाली प्रधानमंत्री नहीं मानता, मेरे लिए वो एक और अतिथि नहीं हैं। मेरे लिए वो गुरु हैं, विश्वगुरु। और जो आदर सम्मान था ना केवल वो उनकी सोच थी, वो पूरे पेसिफिक की सोच थी, पूरी दुनिया की सोच थी।''

जयशंकर ने ये भी दावा किया कि बीते 45 साल से लगातार विदेश नीति देखने के बावजूद वो ऐसे लम्हों के साक्षी पहले कभी नहीं देखे। उन्होंने ऑस्ट्रेलिया (Australia) के प्रधानमंत्री द्वारा PM मोदी को बॉस कहे जाने के पीछे की कहानी सुनाई। जयशंकर ने कहा कि…

''उनके वो स्पीच में था नहीं। उन्होंने बाद में मुझे कहा कि मेरे अंदर की भावना थी और मुझे प्रकट करने का कहीं अंदर से दबाव था। तो जब किसी देश वो भी ऑस्ट्रेलिया जैसे देश को उनके प्रधानमंत्री जब कहते हैं कि आप दि बॉस हैं, जब ये पापुआ न्यू गिनी के प्रधानमंत्री कहते हैं कि मैं आपको गुरुजी के स्तर पर मानता हूं तो मैं आ सबको समझाना चाहता हूं कि अभी जिस परिप्रेक्ष्य से दुनिया भारत को देख रही है, इसका कारण है प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी का नेतृत्व।''

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Related Posts

Most Popular