Friday, June 21, 2024
HomeखेलWorld Cup, India vs Pakistan: ना प्लान, ना आत्मविश्वास, अल्लाह भरोसे भारत...

World Cup, India vs Pakistan: ना प्लान, ना आत्मविश्वास, अल्लाह भरोसे भारत के खिलाफ उतरा था पाकिस्तान, जानिए कैसे टीम इंडिया ने 7 विकेट से दी करारी शिकस्त

पाकिस्तान की टीम अहमदाबाद (Ahmedabad) में वर्ल्ड कप मुकाबले के अपने सबसे बड़े मुकाबले में बिना तैयारी के उतरी थी, ऐसा बिल्कुल नहीं था। लेकिन, ये भी सच है कि पाकिस्तान की टीम हारने के सारे उपाय करके नरेंद्र मोदी स्टेडियम पहुंची थी। पाकिस्तान की टीम में ना तो आत्मविश्वास नज़र आया और ना ही उसके पास भारत जैसी बड़ी टीम को हराने की कोई ठोस रणनीति दिखी। नतीजा ये हुआ की बाबर आर्मी 7 विकेट से हार गई। टॉस जीतकर भारत ने पाकिस्तान को एक बड़ा स्कोर खड़ा करने का पूरा मौका दिया था। पाकिस्तान ने अच्छी शुरुआत भी की। 115 रन के स्कोर पर पाकिस्तान के सिर्फ 2 विकेट गिरे थे। कप्तान बाबर आज़म (Babar Azam) और मोहम्मद रिज़वान क्रीज़ पर टिक गए थे। बाबर आज़म ने तो अर्धशतक भी जड़ दिया था। लेकिन, इसी के बाद से पाकिस्तान का बुरा समय शुरु हो गया। सिर्फ 36 रन बनाकर पाकिस्तान के 8 बल्लेबाज़ पवेलियन लौट गए। एक समय 280 रन के करीब बढ़ती पाकिस्तानी टीम को भारत ने सिर्फ 191 रनों पर रोक दिया। पाकिस्तान का पूरा का पूरा मिडिल ऑर्डर भारतीय बॉलर्स के आगे नतमस्तक हो गया। वनडे विश्व कप में भारत के खिलाफ पाकिस्तान ने अपने दूसरे न्यूनतम स्कोर का शर्मनाक रिकॉर्ड बनाया। 1999 में पाकिस्तानी टीम 180 रन पर ऑल आउट हो गई थी। 

8वीं बार भारत के हाथों वर्ल्ड कप में हारा पाकिस्तान

भारत और पाकिस्तान के बीच इससे पहले वनडे वर्ल्ड कप में 7 मुकाबले हुए थे। गौरतलब है कि सातों मुकाबलों में भारत का ही परचम लहराया। पाकिस्तान पर मनोवैज्ञानिक दबाव था इस शर्मनाक रिकॉर्ड को अहमदाबाद में जीत के साथ तोड़ने का। लेकिन, पाकिस्तान की टीम ने वहीं पुराना इतिहास दोहरा दिया। भारत ने पहली बार पाकिस्तान को वनडे वर्ल्ड कप में 1992 में हराया था। उसके बाद 1996, 1999, 2003, 2011, 2015, 2019 और अब 14 अक्टूबर यानी शनिवार को एक बार फिर पाकिस्तान को चारों खाने चित कर दिया। भारत की ओर से कप्तान रोहित शर्मा (Rohit Sharma) ने धुआंधार पारी खेली। जहां पाकिस्तान की टीम एक भी छक्का नहीं मार सकी, वहीं रोहित शर्मा ने 6 छक्कों के साथ 63 गेंदों में 86 रनों की आतिशी पारी खेली। उनके अलावा श्रेयस अय्यर (Shreyas Iyer) ने नाबाद 53 रन बनाए। डेंगू के बाद पाकिस्तान के खिलाफ अपना पहला वर्ल्ड कप मैच खेलने उतरे शुभमन गिल (Shubman Gill) ने पहली ही गेंद से पाकिस्तान पर धावा बोला। हालांकि, वो 16 रन बनाकर शाहीन अफरीदी के शिकार हो गए। किंग कोहली (Virat Kohli) भी 16 रन ही बना सके। जबकि के एल राहुल ने नाबाद 19 रन बनाए। 

विजयरथ पर सवार भारत, 2011 का इतिहास दोहराने की तैयारी

भारत को पाकिस्तान के खिलाफ मिली जीत से बहुत कुछ हासिल हुआ। एक तो वो 3 के 3 मैच जीतने में कामयाब हो गई। विनिंग मोमेंटम टीम इंडिया के पक्ष में आ गया। इसके अलावा टीम के हर खिलाड़ी का मौके की नज़ाकत को देखते हुए खेलना संतोषजनक है। बैटर्स की बात की जाए तो ओपनर्स अपना काम अच्छी तरह करते नज़र आए। ना सिर्फ रोहित शर्मा बल्कि डेंगू के बाद मैदान पर उतरे शुभमन गिल भी पॉज़िटिव माइंडसेट के साथ उतरे। पहली ही गेंद से पाकिस्तानी बॉलर्स की खबर ली और उनपर दबाव बना दिया। इससे बाकी की टीमें भी दहशत में आ गई होंगी। वहीं बात की जाए मिडिल ऑर्डर की तो भले ही इस मैच में कोहली का बल्ला ना चला हो, लेकिन उनका हालिया फॉर्म, श्रेयस अय्यर का लय में आना, राहुल का सूझबूझ भरी पारी खेलना, हार्दिक पंड्या की ताबड़तोड़ बैटिंग करना अच्छे संकेत हैं। इसके अलावा गेंदबाज़ी में मोहम्मद सिराज और बुमराह की जोड़ी का शुरुआती ओवर्स में विकेट झटकना, हार्दिक पंड्या, रवींद्र जडेजा और कुलदीप यादव का बीच के ओवर्स में विरोधी बैटर्स को पवेलियन भेजना वर्ल्ड कप में टीम इंडिया के झंडे गाड़ने का संकेत दे रहा है। कप्तानी को तो छोड़ ही दीजिए। रोहित शर्मा की शानदार फील्ड प्लेसमेंट, गेंदबाज़ों का बेहतरीन तरीके से रोटेशन और हर विरोधी बैटर के खिलाफ आक्रामक रणनीति लाजवाब नज़र आ रही है। कुल मिलाकर ये कहना गलत नहीं होगा कि भारत 2011 का इतिहास दोहरा सकता है। बस ज़रूरत तो इस फॉर्म को बरकरार रखने की। वैसे कप्तान रोहित शर्मा ने पाकिस्तान पर मिली जीत के बाद साफ कर दिया है कि वो ना तो जीत से अति उस्ताहित होने वाले हैं और ना ही हार से निराश। रोहित ने कहा कि, उनकी टीम हर मैच को एक नए मैच की तरह देखती है और जीत के लिए खेलती है। 

भारत से हारकर क्यों चिंता में डूबी होगी पाकिस्तानी टीम?

पाकिस्तान के खिलाफ मिली जीत के साथ टीम इंडिया प्वाइंट्स टेबल में टॉप पर पहुंच गई। टीम इंडिया के 6 अंक हैं और नेट रनरेट 1.821 का। वहीं बात करें पाकिस्तान की तो वो 4 अंकों के साथ चौथे पायदान पर है। लिहाज़ा, ऐसा नहीं है कि पाकिस्तान के लिए वर्ल्ड कप खत्म हो गया। लेकिन उसके सामने चुनौतियां भी कम नहीं हैं। पाकिस्तान को अभी ऑस्ट्रेलिया, इंग्लैंड, साउथ अफ्रीका और न्यूज़ीलैंड जैसी मज़बूत टीमों से भिड़ना है। उसे अगर इन तगड़ी टीमों के खिलाफ जीत दर्ज करनी है तो पूरी टीम को एक यूनिट की तरह खेलना होगा। मैन टू मैन मार्किंग करनी होगी। हर खिलाड़ी के लिए अलग से रणनीति बनाने के साथ उसे मैदान पर उतारने के लिए मेहनत करनी होगी। पाकिस्तान के मिडिल ऑर्डर बैटर्स को अच्छी बैटिंग करनी होगी और गेंदबाजों को उतनी ही अच्छी बॉलिंग। लेकिन, भारत के खिलाफ पाकिस्तान के प्रदर्शन को देखकर लगता नहीं कि वो इस झटके से उबर पाएगा। पाकिस्तान की टीम अच्छी तो है लेकिन दबाव में बिखरने की उसकी आदत उतनी ही पुरानी। बड़े मैचों में पाकिस्तान की टीम ताश के पत्तों की तरह ढह जाती है। ऐसे में पाकिस्तान की टीम को ड्रेसिंग रूम में गहन चिंतन करने के अलावा अगली बार आत्मविश्वास के साथ मैदान पर उतरना होगा। पाकिस्तानी बल्लेबाजों को शॉट खेलने से झिझकना छोड़ना होगा, क्योंकि ज़्यादातर पाकिस्तानी बैटर्स ने इसी चक्कर में भारतीय गेंदबाज़ों के सामने हथियार डाले। 
टीवी तोड़कर गुस्सा उतारते पाकिस्तानी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Related Posts

Most Popular