Saturday, April 20, 2024
Homeराज्यPilot-Gehlot Controversy: अशोक गहलोत और पार्टी हाईकमान से नाराज़ सचिन पायलट लेंगे...

Pilot-Gehlot Controversy: अशोक गहलोत और पार्टी हाईकमान से नाराज़ सचिन पायलट लेंगे बड़ा फैसला! 11 जून को कांग्रेस को लग सकता है ज़ोरदार झटका

RAJASTHAN: कर्नाटक चुनाव (Karnataka Election) जीतने के बाद कांग्रेस (Congress) का आत्मविश्वास बढ़ा हुआ है। कांग्रेस का पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) 2024 में बीजेपी (BJP) को केंद्र की सत्ता से उखाड़ फेंकने का दावा कर रहे हैं। कांग्रेस विपक्षी दलों को एकजुट करने की कोशिशों में लगी है। लेकिन, कांग्रेस के अपने ही उसके लिए मुश्किलों का पहाड़ा खड़ा कर रहे हैं। जी हां, हम बात कर रहे हैं राजस्थान (Rajasthan) की, जहां गहलोत (Ashok Gehlot) और सचिन (Sachin Pilot) की बीच चल रही सियासी जंग एक नई शक्ल अख्तियार करती नज़र आ रही है। कुछ रिपोर्ट्स में दावा किया दावा किया जा रहा है कि बहुत जल्द सचिन पायलट नई पार्टी बनाने का ऐलान करने वाले हैं। हालांकि सचिन के करीबियों का कहना है कि वो केवल अपनी मांगों को मनवाने की कोशिशों में जुटे हैं। सचिन के करीबियों का दावा है कि वो चाहते हैं कि अशोक गहलोत सरकार पूर्ववर्ती वसुंधरा राजे (Vasundhara Raje) सरकार के दौरान हुए भ्रष्टाचार (Corruption) के आरोपों की जांच और कार्रवाई करे। सचिन पायलट चाहते हैं कि सरकारी भर्ती परीक्षा से जुड़े पेपर लीक (Paper Leak) होने के मुद्दों पर काम करे। सचिन पायलट पार्टी आलाकमान के अंतिम फैसले का इंतजार कर रहे हैं।

पिता राजेश पायलट की पुण्यतिथि पर बड़ा फैसला लेंगे सचिन?

मीडिया के एक बड़े धड़े में चर्चा है कि सचिन पायलट 11 जून को दौसा में अपने पिता की पुण्यतिथि पर अपने भविष्य या कहें नई पार्टी को लेकर कोई ऐलान कर सकते हैं। सचिन पायलट के साथ जुड़े कुछ नेताओं की मानें तो वो सिर्फ पार्टी आलाकमान के फैसले का इंतजार कर रहे हैं। भ्रष्टाचार और पेपर लीक के मुद्दे उनकी सर्वोच्च प्राथमिकता हैं। अगर इन मुद्दों पर पार्टी आलाकमान कोई एक्शन नहीं लेती तो हो सकता है कि सचिन पायलट कांग्रेस का हाथ छोड़कर नई मंज़िल तलाशें। वैसे एक बात पर गौर करना भी ज़रूरी है। 11 अप्रैल को सचिन पायलट ने अनशन किया, 11 मई को जन संघर्ष यात्रा की शुरुआत की। ऐसे में 11 जून को वो पार्टी से अलग होने का फैसला भी ले सकते हैं।

सचिन और अशोक गहलोत के बीच कुछ भी ठीक नहीं

राजस्थान से जुड़े विश्वसनीय सूत्रों के मुताबिक मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और सचिन पायलट ने पिछले हफ्ते ही पार्टी प्रमुख मल्लिकार्जुन खरगे (Mallikarjun Kharge) और राहुल गांधी (Rahul Gandhi) के साथ एक मीटिंग की थी। लेकिन, इस मीटिंग का कोई नतीजा नहीं निकला। दोनों नेता अपनी-अपनी मांगों पर अड़े रहे। दोनों के बीच मुख्य मुद्दों का कोई समाधान नहीं निकला। हालांकि, पायलट के करीबी माने जाने वाले राज्य मंत्री मुरारी लाल मीणा ने ऐसी अटकलों को खारिज किया है। उन्होंने कहा कि, इस तरह की अटकलों में कोई दम नज़र नहीं आता।

अशोक गहलोत और सचिन पायलट के बीच क्या है विवाद?

  • साल 2018 में राजस्थान में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद से विवाद का आरंभ हुआ
  • अशोक गहलोत और सचिन पायलट के बीच सत्ता के लिए संघर्ष शुरु हुआ
  • सचिन पायलट ने 11 मई को परोक्ष रूप से अशोक गहलोत के खिलाफ जन संघर्ष यात्रा निकाली
  • दोनों नेताओं के बीच कई बार सुलह भी कराने की कोशिश की गई, लेकिन हर कोशिश नाकाम रही
  • खरगे और राहुल गांधी के साथ गहलोत और पायलट के बीच चल रहे विवाद को समाप्त करने के लिए बैठक हुई थी
  • बैठक के बाद कांग्रेस ने राजस्थान विधानसभा चुनाव में बीजेपी के खिलाफ पार्टी के एकजुट होने का दावा किया है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Related Posts

Most Popular